गीता ज्ञान

  • आत्मा न पैदा होती है और न ही मरती है ? क्यों व्यर्थ चिंता करते हो ? क्यों व्यर्थ डरते हो ? कौन तुम्हे मार सकता है ?
  • तुम भुत का पश्चाताप मत करो , भविष्य की चिंता मत करो , वर्तमान को जियो I
  • जो हुआ, अच्छा  हुआ , जो हो रहा है वो भी अच्छा हो रहा है,  जो होगा वो भी अच्छा होगा I
  • तुम्हारा क्या गया , जो तुम रोते हो ?
  • तुम क्या लाये थे , जो तुमने खो दिया?
  • तुमने क्या पैदा किया , जो नष्ट हो गया?
  • तुमने जो लिया यही से लिया, जो दिया यही पर दिया I
  • जो आज तुम्हारा है, वो कल किसी और का होगा I   
  • परिवर्तन ही संसार  का नियम है I
  • जिसे तुम म्रत्यु समझते हो वही तो जीवन है I मेरा –तेरा , अपना- पराया, मन से मिटा दो , फिर सब तुम्हारा है, तुम सबके हो I

कृष्ण जन्माष्ठमी की हार्दिक शुभकामनाएँ

                                                              जय श्रीकृष्णा